1. होम
  2. बायोग्राफी
  3. हनीप्रीत सिंह का जीवन परिचय

हनीप्रीत सिंह का जीवन परिचय

हनीप्रीत सिंह का जीवन परिचय, Honeypreet Singh Biography in Hindi, हनीप्रीत सिंह का जन्म सन 1975 में हुआ, ये बाबा राम रहीम की गोद ली हुई बेटी है। ये अपने आपको गुरमीत सिंह राम रहीम की सबसे प्यारी बेटी बताती हैं और ख़ुद को पापा की परी कहती हैं। इनका असली नाम प्रियंका तनेजा है, जिसे बाबा राह रहीम ने बाद में बदल कर हनीप्रीत इंसा कर दिया था। ये अपने आपको बाबा राम रहीम के बाद डेरा का उत्तराधिकारी भी बताती हैं। ये पेशे से डायरेक्टर, एडिटर और एक्ट्रेस भी है।

Honeypreet Singh Jivani Biography

हनीप्रीत सिंह डेरा सच्चा सौदा में आने के साथ ही यहाँ की लगभग सभी कार्यों को अपने अधीन कर लिया और बहुत कम समय में बहुत अधिक नाम कमाई। इन्होने गुरमीत सिंह राम रहीम के द्वारा बनाए जाने वाली फ़िल्मों में भी राम रहीम की काफ़ी मदद की। इन्होने जिन फ़िल्मों में राम रहीम की मदद की वह हैं- MSG, MSG-2 और 'हिन्द का नापाक को जवाब'।

90 के दशक के बाद विश्वास गुप्ता डेरा सच्चा सौदा के अनुयायी बने। वर्ष 1999 में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम के द्वारा उनका विवाह उनकी मुँह बोली बेटी हनीप्रीत के साथ हुआ। किन्तु बहुत जल्द ही दोनों में कई तरह के तनाव शुरू हो गये। उनकी शादी के कुछ वर्ष बाद हनीप्रीत ने डेरा प्रमुख राम रहीम को शिकायत करते हुए कहा कि उसके ससुराल वाले दहेज की मांग कर रहे हैं। दूसरी तरफ, विश्वास ने कहा कि राम रहीम की बुरी नज़र उनकी पत्नी हनीप्रीत पर है, जिसे वह अपनी मुँह बोली बेटी कहता है, डेरा प्रमुख ने हनीप्रीत के साथ नाजायज रिश्ते को छुपाने के लिए उसे अपनी बेटी बना लिया।

वर्ष 2011 में, विश्वास ने पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट में राम रहीम के खिलाफ एक अर्ज़ी दायर कि जिसमें उन्होंने कहा कि राम रहीम उनकी पत्नी के साथ दुर्व्यवहार करता है। लेकिन 2014 में, विश्वास और उनके पिता ने यह कहते हुए माफी मांगी कि उनके खिलाफ सभी आरोप गलत थे।

सोशल साइट्स पर भी हनीप्रीत लगातार बाबा राम रहीम को प्रमोट करने में लगी रहती हैं। इनके फेसबुक पेज पर इनके 5,00,000 फॉलोवर इनसे जुड़े हुए होते हैं, जहाँ पर ये बाबा राम रहीम की ही सभी तात्कालिक प्रतिक्रियाओं को अपडेट करती रहती हैं।

गुरमीत राम रहीम के दोषी करारा दिए जाने के बाद उनकी गद्दी कौन संभालेगा इसे लेकर कई नाम सामने आ रहे हैं, लेकिन सबसे प्रबल दावेदार हनीप्रीत इंसा हैं, क्योंकि डेरा के नियम के मुताबिक गद्दी उनके बेटे जसमीत इंसा को नहीं दी जा सकती है। ऐसे में अपने पिता की काफी करीबी मानी जानी वाली हनीप्रीत गद्दी की सबसे प्रबल दावेदार मान जा रही थी।

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत को दोषी करार दिए जाने के बाद 25 अगस्त को सिरसा में हुई हिंसा और आगजनी के आरोपों में पुलिस ने 5 और लोगों को गिरफ्तार किया है। सिरसा में हुई डेरा हिंसा के मामलों में अब तक डेढ़ दर्जन से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जिसमें हनीप्रीत सिंह भी शामिल हैं।

नोट :- आपको ये पोस्ट कैसी लगी, कमेंट्स बॉक्स में जरूर लिखे और शेयर करें, धन्यवाद।

Related Posts :

  1. ऊधम सिंह का जीवन परिचय
  2. दादा भाई नौरोजी का जीवन परिचय
  3. आयरन लेडी एनी बेसेंट का जीवन परिचय
  4. मदन लाल ढींगरा का जीवन परिचय
  5. बिरसा मुंडा
  6. गणेशशंकर विद्यार्थी का जीवन परिचय