1. होम
  2. बायोग्राफी
  3. पी. चिदंबरम का जीवन परिचय

पी. चिदंबरम का जीवन परिचय

पी. चिदंबरम का जीवन परिचय, P. Chidambaram Biography in Hindi, पी. चिदंबरम का जन्म 16 सितंबर, 1945 को तमिलनाडु के छोटे से गांव कनाडुकथन के एक शाही परिवार में हुआ था। इनका वास्तविक नाम पलानीअप्पन चिदंबरम है। प्रारंभिक शिक्षा मद्रास क्रिश्चियन सेकेंडरी स्कूल, चेन्नई से पूरी करने के बाद पी. चिदंबरम ने प्रेसिडेंसी कॉलेज, चेन्नई से विज्ञान में सांख्यिकी विषय के साथ स्नातक की डिग्री प्राप्त की। आगे की पढ़ाई के लिए उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी, बोस्टन में दाखिला लिया। यहां से पी. चिदंबरम ने व्यवसाय प्रबंधन में स्नातकोत्तर की उपाधि प्राप्त की।

P Chidambaram Jeevan Parichay Biography

चिदंबरम एक अत्यंत समृद्ध परिवार से आते हैं। उनकी मां, लक्ष्मी अची, राजा सर अननामलाई चेट्टिया की बेटी थी, एक धनी बैंकर और व्यापारी, जिसकी तमिलनाडु में 90 गांवों की संपत्ति थी और उन्हें ब्रिटिश राज द्वारा राजा का दर्जा दिया गया था। अन्नामलाई चेट्टियार अन्नामलाई विश्वविद्यालय और यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड के संस्थापक थे। उनके भाई रामास्वामी चेट्टियार भारतीय बैंक के संस्थापक थे और दूसरे प्रमुख बैंकों के सह-संस्थापक थे।

जस्टिस (सेवानिवृत्त) पीएस की बेटी नलिनी चिदंबरम से उनकी शादी हुई है। कैलाशम, सुप्रीम कोर्ट, और श्रीमती सांड्रा कैलाशम, एक प्रसिद्ध तमिल कवि और लेखक, जो मद्रास उच्च न्यायालय और भारत के सर्वोच्च न्यायालय में अभ्यास कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता हैं। उनके पास एक बेटा है, कार्तती पी। चिदंबरम, जो टेक्सास विश्वविद्यालय से ऑस्टिन की बीबीए की डिग्री के साथ स्नातक की उपाधि प्राप्त की और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से लॉ में मास्टर्स ऑफ लॉ। कार्तिक, कांग्रेस पार्टी का एआईसीसी सदस्य, तमिलनाडु राज्य की राजनीति में सक्रिय है। कार्ती, चेन्नई में अपोलो ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल में काम कर रहे डॉ। श्रीनिदी रंगराजन से प्रसिद्ध हैं, एक प्रसिद्ध भारतनियतिम नर्तक और चिकित्सक। कार्तिक और श्रीनिधि की एक बेटी है, अदिति नलिनी चिदंबरम।

पी. चिदंबरम ने अपने कॅरियर की शुरुआत चेन्नई उच्च न्यायालय में वकालत से की थी। वर्ष 1984 में वह वरिष्ठ वकील के तौर पर नामित हुए। दिल्ली और चेन्नई के उच्च न्यायालयों में इनका चैंबर भी हैं। विभिन्न राज्यों के उच्च न्यायालयों समेत पी. चिदंबरम सर्वोच्च न्यायालय में भी प्रैक्टिस कर चुके हैं। पी. चिदंबरम ने वर्ष 1972 में अखिल भारतीय कांग्रेस समिति की सदस्यता ग्रहण की थी। इसके अलावा चिदंबरम एक स्थापित कंपनी मामलों के वकील है जिन्होंने अब दिवालिया हो चुकी एनरॉन सहित कई प्रसिद्ध संस्थाओं के लिए पैरवी की है। वह 1973 में तमिलनाडु में युवा कांग्रेस अध्यक्ष और तमिलनाडु कांग्रेस प्रदेश समिति के महासचिव भी रह चुके हैं। वर्ष 1984 में तमिलनाडु के शिवगंगा निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा चुनाव जीतने के साथ पी. चिदंबरम ने सक्रिय राजनीति में प्रदार्पण किया था। इस सीट पर उन्होंने लागातार 6 बार तक जीत दर्ज की।

राजीव गांधी सरकार के अंतर्गत पी. चिदंबरम कार्मिक मंत्रालय और वाणिज्य मंत्रालय में उप-मंत्री के तौर पर कार्य कर चुके हैं। इस कार्यकाल के दौरान पी. चिदंबरम को चाय के दामों को नियंत्रित कैसे किया जाए, जैसे पेचीदा दायित्व सौंपे गए थे। वर्ष 1986 में पी. चिदंबरम को लोकशिकायत और पेंशन मंत्रालय के साथ कार्मिक मंत्रालय में भी मंत्री पद सौंप दिया गया। इसी वर्ष अक्टूबर में पी. चिदंबरम को केन्द्रीय गृह मंत्रालय में, आंतरिक सुरक्षा मंत्री का पदभार प्रदान किया गया। वर्ष 1991 में पी. चिदंबरम को राज्य मंत्री के पद पर वाणिज्य मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभारी बनाया गया।

वर्ष 1995 में वह दोबारा इस पद पर आसीन हुए। वर्ष 1996 में केन्द्रीय कांग्रेस पार्टी से त्यागपत्र देने के बाद पी. चिदंबरम तमिलनाडु की कांग्रेस इकाई, तमिल मानिला कांग्रेस (टीएमसी) में शामिल हो गए।  1996 के आम चुनावों के दौरान टीएमसी ने कुछ विपक्षी क्षेत्रीय और राष्ट्रीय दलों को मिलाकर गठबंधन सरकार का निर्माण किया। इस दौरान पी. चिदंबरम को कैबिनेट मंत्री के रूप में वित्त मंत्रालय का भार सौंपा गया। यद्यपि यह सरकार जल्द ही गिर गई, लेकिन पी. चिदंबरम को अपेक्षित राजनैतिक पहचान मिल गई।

वर्ष 2004 में मनमोहन सरकार के अंतर्गत दोबारा पी. चिदंबरम को वित्त-मंत्रालय सौंपा गया। इस पद पर वह 2008 तक रहे। इस वर्ष आतंकवादी धमाकों के बाद तत्कालीन गृहमंत्री शिवराज पाटिल के इस्तीफा दिए जाने के बाद पी. चिदंबरम को गृह-मंत्री बनाया गया। गृह मंत्री के रूप में साढ़े तीन साल के कार्यकाल के बाद इन्हें मनमोहन सिंह सरकार में पुनः वित्त मंत्री नियुक्त किया गया।

चिदंबरम अब तक लोकसभा में 7 बजट प्रस्तुत कर चुके हैं, जिसमें संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन में वित्त मंत्री के नाते उन्होंने 5 बजट प्रस्तुत किए हैं। चिदंबरम एक कॉरपोरेट वकील हैं और पिछले कांग्रेस नेतृत्व वाली सरकार के एक महत्वपूर्ण सदस्य हैं। चिदंबरम जुलाई 2012 में वित्त मंत्री के रूप में लौटे, प्रणव मुखर्जी के पद पर रहे, जिन्होंने भारत के राष्ट्रपति बनने के लिए कार्यालय छोड़ दिया।

चिदंबरम की आलोचना की गई, क्योंकि उनके मुंबई में 2008 के मुंबई हमलों के बाद सुरक्षा में भारी निवेश के बावजूद 13 जुलाई 2011 मुंबई बम विस्फोट को रोकने में उनके मंत्रालय की असफलता थी। 2008 के हमलों के तीन साल बाद, सुरक्षा उपकरणों को सुरक्षा उपकरणों के आधुनिकीकरण, खरीद, और स्थापित करने में चैनल टूटने और असफलताओं के साथ अपर्याप्त साबित हुआ। चिदंबरम ने अपने मंत्रालय के तहत एजेंसियों के बचाव में उत्तर के साथ खुफिया विफलता के आरोप में बचाव किया, जिसे बाद में भारत और उसके मीडिया के कई लोगों ने उपहासित किया था।

नोट :- आपको ये पोस्ट कैसी लगी, कमेंट्स बॉक्स में जरूर लिखे और शेयर करें, धन्यवाद।

Related Posts :

  1. ऊधम सिंह का जीवन परिचय
  2. दादा भाई नौरोजी का जीवन परिचय
  3. आयरन लेडी एनी बेसेंट का जीवन परिचय
  4. मदन लाल ढींगरा का जीवन परिचय
  5. बिरसा मुंडा
  6. गणेशशंकर विद्यार्थी का जीवन परिचय