धार्मिक चालीसा - Chalisa

श्री पार्वती माता चालीसा

Parvati Chalisa

Parvati Mata Chalisa In Hindi, माता पार्वती भगवान शिव की अर्धांगिनी और भगवान गणेश की माता हैं। माता पार्वती शिव जी को पति रूप में प्राप्त करने के लिए घोर तप कर रही थीं। उनके तप को देखकर देवताओं ने शिव जी से देवी की मनोकामना पूर्ण करने की प्रार्थना की। पुराणों के अनुसार माता पार्वती का मुख बहुत उज्ज्वल और तेजोमय है। ...Read More

-Advertisement-

श्री चामुण्डा देवी चालीसा

Chamunda Chalisa

Chamunda Devi Chalisa In Hindi, चण्ड और मुण्ड का वध कर जब काली मां माता चण्डी के पास गई तो उन्होंने काली माता को चामुण्डा देवी के नाम से प्रसिद्ध होने का वरदान दिया था। हिन्दू मान्यतानुसार देवी दुर्गा के विभिन्न स्वरूपों में से चामुण्डा देवी प्रमुख हैं। दुर्गा सप्तशती में चामुण्डा देवी की कथा का वर्णन किया है। माना जाता है कि चामुण्डा देवी की साधना करने से मनुष्य को परम सुख की प्राप्ति होती है। ...Read More

श्री राधा जी का चालीसा

Radha Chalisa

Shri Radha Chalisa In Hindi, राधा जी हिन्दू धर्म की देवी हैं। हिन्दू धर्म में भगवान श्री कृष्ण के साथ राधा जी का भी नाम लिया जाता है। कई लोग मानते हैं कि राधा जी विष्णु जी की अर्धांगिनी देवी लक्ष्मी का अवतार हैं। श्री राधा और कृष्ण को शाश्वत प्रेम का प्रतीक माना जाता हैं। श्री राधा जी की आराधना से सुख- शांति और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। इनकी आराधना करने से घर में प्रेम का वातावरण रहता है। ...Read More

-Advertisement-

श्री हनुमान चालीसा

Hanuman Chalisa Chalisa

Shri Hanuman Chalisa In Hindi, हनुमान चालीसा तुलसीदास की अवधी भाषा में लिखी एक काव्यात्मक कृति है, जिसमें प्रभु राम के महान भक्त हनुमान के गुणों एवं कार्यों का चालीस चौपाइयों में वर्णन है। यह अत्यन्त लघु रचना है जिसमें पवनपुत्र श्री हनुमान जी की सुन्दर स्तुति की गई है। इसमें बजरंग बली की भावपूर्ण वंदना तो है ही, श्रीराम का व्यक्तित्व भी सरल शब्दों में उकेरा गया है। माना जाता है कि इसके पाठ से भय दूर होता है, क्लेष मिटते हैं। इसके गंभीर भावों पर विचार करने से मन में श्रेष्ठ ज्ञान के साथ भक्तिभाव जाग्रत होता...Read More

-Advertisement-

शिव चालीसा

Shiv Chalisa Chalisa

Shiv Chalisa In Hindi, शिव पुराण के अनुसार शिव-शक्ति का संयोग ही परमात्मा है। शिव की जो पराशक्ति है उससे चित् शक्ति प्रकट होती है। चित् शक्ति से आनंद शक्ति का प्रादुर्भाव होता है। आनंद शक्ति से इच्छाशक्ति का उद्भव हुआ है। ऐसे आनंद की अनुभूति दिलाने वाले भगवान भोलेनाथ का शिवरात्रि में शिव चालीसा पढ़ने का अलग ही महत्व है। शिव चालीसा के माध्यम से अपने सारे दुखों को भूला कर शिव की अपार कृपा प्राप्त कर सकते हैं। ...Read More