हिंदी कविता - Hindi Rhymes


मेरा जीवन - हिंदी कविता

Mera Jeevan Hindi Kavita Hindi Rhymes

मैंने हँसना सीखा है, मैं नहीं जानती रोना, बरसा करता पल-पल पर, मेरे जीवन में सोना। मैं अब तक जान न पाई, कैसी होती है पीडा, हँस-हँस जीवन में, कैसे करती है चिंता क्रिडा। . . . Read More . . .

Advertisement

झिलमिल तारे - हिंदी कविता

Jhilmil Taare Hindi Kavita Hindi Rhymes

कर रहे प्रतीक्षा किसकी हैं, झिलमिल-झिलमिल तारे? धीमे प्रकाश में कैसे तुम, चमक रहे मन मारे।। अपलक आँखों से कह दो, किस ओर निहारा करते? किस प्रेयसि पर तुम अपनी, मुक्तावलि वारा करते? करते हो अमिट प्रतीक्षा, तुम कभी न विचलित होते। नीरव रजनी अंचल में, तुम कभी न छिप कर सोते।। . . . Read More . . .


जीवन फूल - हिंदी कविता

Jivan Phool Hindi Rhymes

मेरे भोले मूर्ख हृदय ने कभी न इस पर किया विचार। विधि ने लिखी भाल पर मेरे सुख की घड़ियाँ दो ही चार॥ छलती रही सदा ही मृगतृष्णा सी आशा मतवाली। सदा लुभाया जीवन साकी ने दिखला रीती प्याली॥ . . . Read More . . .

Advertisement

देखो कोयल काली है

Dekho Koyal Kali Hai Hindi Rhymes

देखो कोयल काली है पर मीठी है इसकी बोली, इसने ही तो कूक कूक कर आमों में मिश्री घोली। कोयल कोयल सच बतलाना क्या संदेसा लायी हो, बहुत दिनों के बाद आज फिर इस डाली पर आई हो। क्या गाती हो किसे बुलाती बतला दो कोयल रानी, प्यासी धरती देख मांगती हो क्या मेघों से पानी? . . . Read More . . .

Advertisement

सखि वसन्त आया - हिंदी कविता

Sakhi Vasant Aaya Hindi Kavita Hindi Rhymes

सखि, वसन्त आया, भरा हर्ष वन के मन, नवोत्कर्ष छाया। किसलय-वसना नव-वय-लतिका मिली मधुर प्रिय-उर तरु-पतिका, मधुप-वृन्द बन्दी-पिक-स्वर नभ सरसाया। . . . Read More . . .


Categories