हिंदी कविता - Hindi Rhymes

नजर नहीं आते - कविता

Nazar Nahi Aate Hindi Rhymes

"कविता" बेजान मिटटी में, हरे भरे शजर नहीं आते, बहुत खुश थे अब परिंदे वो नजर नहीं आते। बेहद मुहब्बत थी, इस आँगन के खिलौनों से, अब बुलाते है उनको, तो वो घर नहीं आते। एक जिद थी तराशते बुतों में जान भरने की, वह दरार क्या पड़ी उन्हें पत्थर नहीं भाते। इतनी नफरत इनको...Read More

आँसू बहाकर - कविता

Aansoo Bahakar Hindi Rhymes

"कविता" भूखे-प्यासे थककर, गिर भी जाते हैं लोग, दया का एक हाथ, उठा कर देख लेना। आँसू, तड़प, टीस और बेहद है गरीबी, दर्द पीकर दो आँसू बहा कर देख लेना। सूखे बंजर, चरमराते खेत हैं प्यासे, मिट्टी में एक 'अंकुर' उगाकर देख लेना। लहू लीलते यो हैं व्यवस्था के अजगर, खून पीता जौंक एक...Read More

कभी जीत कभी हार - कविता

Kabhi Jeet Kabhi Har Hindi Rhymes

"कविता" जब रिक्त होता हूँ, तो आकाश होता हूँ, जब मरुस्थल होता हूँ, तो एक प्यास होता हूँ। धरती सद्रश भारी - एक प्यास होता हूँ निर्मल वायु सी प्रवाह, एक साँस होता हूँ। मैं अर्ध खिला फूल, एक आकाश होता हूँ, बहता शीतल जल, एक विश्वास होता हूँ। अमावस में दिये सा आभास होता...Read More

उठो द्रोपदी - कविता

Utho Dropadi Hindi Rhymes

"कविता" उठो द्रौपदी वस्त्र संम्भालो, अब गोविन्द न आयेंगे। कब तक आस लगाओगी तुम, बिके हुए अखबारों से। कैसी रक्षा मांग रही हो, दु:शासन दरवारों से। स्वंय जो लज्जाहीन पड़े हैं, वे क्या लाज बचायेंगे। उठो द्रोपदी वस्त्र संम्भालो, अब गोबिन्द न आयेंगे। कल तक केवल अंधा राजा, अब गूंगा बहरा भी है।...Read More

माँ का प्यार - कविता

Maa Ka Pyaar Hindi Rhymes

"कविता" महीने बीत जाते हैं, साल गुजर जाता है, वृद्धाश्रम की सीड़ियों पर, मैं तेरी राह देखती हूं। आंचल भीग जाता है, मन खाली सा लगता है, तू कभी नहीं आता, तेरा मनीआर्डर आता है। इस बार पैसे न भेज, तू खुद आ जा, बेटा मुझे अपने साथ, अपने घर ले जा। तेरे पापा थे...Read More