1. होम
  2. प्रसिद्ध दोहे
  3. कबीर के दोहे

कबीर के दोहे

कबीर दास का दोहा, Kabir Ke Dohe in Hindi, जब भी हम दोहों के बारे में बात करते है तो संत कबीर का नाम सबसे पहले आता है, उनके साहित्य के योगदान को कभी भी नहीं भुलाया जा सकता, उनकी रचनाएँ, भजन, और दोहे बहुत प्रसिद्ध है। जन्म से लेकर युवावस्था तक संघर्ष की आंच में तपने वाले कबीर दास की जयंती 9 जून को मनाई जाती है। कबीर जी पढ़े लिखे नहीं थे। फिर भी कबीर जी ने इंसान को वो ज्ञान दिया जिसे विचार कर इंसान का जीवन बदल जाए।

Kabir Ke Dohe Dohe - Couplets

-Advertisement-

"दोहा"

"जब मैं था तब हरी नहीं, अब हरी है मैं नाही।
सब अँधियारा मिट गया, दीपक देखा माही॥"

"हिन्दू कहें मोहि राम पियारा, तुर्क कहें रहमाना।
आपस में दोउ लड़ी-लड़ी मुए, मरम न कोउ जाना॥"

"जाति न देखो नेता की, देख लीजिये काम।
मोल करो तरवार का, पड़ा रहन दो म्यान॥"

"दोस पराए देखि करि, चला हसन्त हसन्त।
अपने याद न आवई, जिनका आदि न अंत॥"

"बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय,
जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय॥"

"उठा बगुला प्रेम का तिनका चढ़ा अकास।
तिनका तिनके से मिला तिन का तिन के पास॥"

"साधू गाँठ न बाँधई उदर समाता लेय।
आगे पाछे हरी खड़े जब माँगे तब देय॥"

"सात समंदर की मसि करौं लेखनि सब बनराइ।
धरती सब कागद करौं हरि गुण लिखा न जाइ॥"

"जिन खोजा तिन पाइया, गहरे पानी पैठ।
मैं बपुरा बूडन डरा, रहा किनारे बैठ॥"

"कबीरा खड़ा बाज़ार में, मांगे सबकी खैर।
ना काहू से दोस्ती,न काहू से बैर॥"

-Advertisement-

-Advertisement-

Related Posts :

  1. सूरदास के दोहे
  2. तुलसी दास के दोहे
  3. रहीम के दोहे
  4. रविदास के दोहे