कहते है लोग मुसाफिर

चलो कि मंजिल जहाँ, वहीँ ठिकाना होगा,
कहते है लोग मुसाफिर, तो जाना होगा।

प्रेम का पंछी जैसे लौट-लौट आता है,
बिछुड़ने का दर्द लेकर मुस्कराना होगा।

सच की एक बूँद, जुबान को, लहूलुहान कर देती है।
न जाने कितनी पीढ़ियों को, ज्यों गुलाम कर देती है।

Kahate Hai Log Musaafir Hindi Rhymes
Advertisement

Chalo Ki Manjil Jahaan, Vahin Thikaana Hoga,
Kahate Hai Log Musaafir, To Jaana Hoga.

Prem Ka Panchhi Jaise Laut-Laut Kar Aata Hai,
Bichhudane Ka Dard Lekar Muskaraana Hoga.

Sach Ki Ek Boond, Jubaan Ko, Lahooluhaan Kar Deti Hai.
Na Jaane Kitani Pidhiyon Ko, Jyon Gulaam Kar Deti Hai.

Advertisement
Advertisement

Related Post

Categories