1. होम
  2. हिंदी कविता
  3. कायर और हिम्मती

कायर और हिम्मती

सच है विपत्ति जब आती है, कायर को ही दहलाती है।
सूरमा नहीं विचलित होते, क्षण एक नहीं धीरज खोते।

विध्नों को गले लगाते हैं, काँटों में राह बनाते हैं।
है कौन विध्न ऐसा जग में, टिक सके आदमी के मग में।

ख़म ठोके ठेलता है जब नर, पर्वत के जाते पाँव उखड।
मानव जब जोर लगता है, पत्थर पानी बन जाता है।

गुण बड़े एक से एक प्रखर, हैं छिपे मानवों के भीतर।
मेंहदी में जैसे लाली हो, वर्तिका बीच उजियाली हो।

बत्ती जो नहीं जलाता है, रोशनी नहीं वह पाता है।

Kayar Aur Himmati Hindi Rhymes

-Advertisement-

Sach Hai Vipatti Jab Aati Hai, Kayar Ko Hi Dahalaati Hai.
Surama Nahin Vichalit Hote, Kshan Ek Nahin Dheeraj Khote.

Vidhnon Ko Gale Lagaate Hain, Kaanton Mein Raah Banaate Hain.
Hai Kaun Vidhn Aisa Jag Mein, Tik Sake Aadamee Ke Mag Mein.

Kham Thoke Thelata Hai Jab Nar, Parvat Ke Jaate Paanv Ukhad.
Maanav Jab Jor Lagata Hai, Patthar Paani Ban Jaata Hai.

Gun Bade Ek Se Ek Prakhar, Hain Chhipe Maanavon Ke Bheetar.
Menhadee Mein Jaise Laalee Ho, Vartika Beech Ujiyaalee Ho.

Battee Jo Nahin Jalaata Hai, Roshanee Nahin Vah Paata Hai.

-Advertisement-

-Advertisement-

Related Posts :

  1. वह - कविता
  2. चम्मू चींटा - बाल कविता
  3. चिड़िया के थे बच्चे चार
  4. भूल गया है क्यों इंसान
  5. हम कुछ करके दिखलाएँगे - कविता
  6. एक बूँद - हिंदी कविता

-Advertisement-