1. होम
  2. बायोग्राफी
  3. जॉर्ज ऑरवेल का जीवन परिचय

जॉर्ज ऑरवेल का जीवन परिचय

जॉर्ज ऑरवेल का जीवन परिचय, George Orwell Biography in Hindi, एरिक आर्थर ब्लेयर जॉर्ज ओरवेल का असली नाम था उनका जन्म 1903 में भारत में हुआ, लेकिन इंग्लैंड में उनके बचपन के उत्थान और शिक्षित होने का एक अच्छा हिस्सा बिताया। वे 21 वर्ष की आयु में एशिया लौट आए और बर्मा में एक पुलिसकर्मी बन गए, जिन्होंने अपने दो प्रसिद्ध काम बर्माज़ डेज़ और "शूटिंग ए एलिफंट" से प्रेरित किया।

जॉर्ज ऑरवेल के संबंध में खास बात यह है कि उनका जन्‍म भारत में ही बिहार के मोतिहारी नामक स्‍थान पर हुआ था। उनके पिता ब्रिटिश राज की भारतीय सिविल सेवा के अधिकारी थे। ऑरवेल का मूल नाम 'एरिक आर्थर ब्‍लेयर' था। उनके जन्‍म के साल भर बाद ही उनकी मां उन्‍हें लेकर इंग्‍लैण्‍ड चलीं गयीं थीं, जहां से‍वानिवृत्ति के बाद उनके पिता भी चले गए। वहीं पर उनकी शिक्षा हुई। जब उन्होंने लिखना शुरू किया तब जॉर्ज ऑरवेल नाम का इस्तेमाल उन्होंने खुद के लिए करना शुरू किया।

George Orwell Jeevan Parichay Biography

-Advertisement-

ब्लेयर बहुत ही राजनीतिक थे, और जमकर मानते थे कि लोकतांत्रिक समाजवाद भविष्य का रास्ता था। वह स्पेन के गृहयुद्ध में लड़े क्योंकि वह फासीवाद को पराजित करना चाहता था। वह युद्ध में घायल हो गया, जिसने द्वितीय विश्व युद्ध के लिए उसे किनारे कर दिया। उन्होंने बीबीसी के लिए काम किया, जहां उन्होंने शासनाध्यक्षों को विरोधी साम्राज्यवादी नाजी प्रचार का मुकाबला करने के लिए भारत के बाहर फैलाने वाले प्रचार के लिए एक अरुचि विकसित किया।

अक्टूबर 1922 में वह बर्मा में भारतीय इंपीरियल पुलिस में शामिल होने के लिए एसएएस नहर और सीलोन के माध्यम से एसएस हियरफोर्डशायर पर रवाना हुए। एक महीने बाद, वह रंगून पहुंचे और मंडले में पुलिस प्रशिक्षण स्कूल चला गया। बर्मा के प्रमुख पहाड़ी स्टेशन मेम्यो में एक छोटी पोस्टिंग के बाद, उन्हें 1924 की शुरुआत में इर्राब्दी डेल्टा में मायांगमा के सीमावर्ती चौकी पर तैनात किया गया।

एक शाही पुलिसकर्मी के तौर पर काम करना ने उन्हें काफी जिम्मेदारी दी, जबकि उनके समकालीन अधिकांश लोग इंग्लैंड में अभी भी विश्वविद्यालय में थे। जब वह डेल्टा से पूर्वी पूर्व में एक उप-विभागीय अधिकारी के रूप में टेंटे में तैनात किया गया था, वह 200,000 लोगों की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार था। 1924 के अंत में, उन्हें सहायक जिला अधीक्षक के रूप में पदोन्नत किया गया और सीरियम में तैनात किया गया, जो रंगून के करीब था।

जॉर्ज ऑरवेल जब सिर्फ एक साल के थे तो यहां से अपनी मां के साथ ब्रिटेन चले गए थे। उनके पिता मोतिहारी के अफीम महकमे में एक अंग्रेज अफसर थे। पिछले कुछ सालों में भारतीय मीडिया में इसे लेकर कई खबरें भी छपी हैं कि कैसे मोतिहारी शहर अंग्रेजी साहित्य के इतने बड़े साहित्यकार का जन्म स्थान वहां होने की बात से अंजान है।

ऑरवेल अपनी किताब कालजयी उपन्यास 'एनिमल फार्म' में 'बिग ब्रदर इज वाचिंग यू' जैसी अवधारणाओं की बात करते हैं जो आज वाकई में तकनीक और गैजेट से घिरी हुई इस दुनिया में अस्तित्व में है। इस किताब में जॉर्ज ऑरवेल की कल्पना शक्ति अद्भुत है। ऐसा लगता है कि कोई 1948 में बैठकर इस वक्त की भविष्यवाणी लिख गया हो। 21 जनवरी 1950 को अपनी मृत्यु से पहले सिर्फ 47 साल की जिंदगी में जॉर्ज ऑरवेल ने अपने वक्त के साथ-साथ अपने आगे के वक्त को भी बखूबी देख लिया था। इसलिए वो इस दौर में और भी ज्यादा प्रासंगिक हो गए हैं। समाज और व्यवस्था पर दूरदर्शी नजर रखने वाला साहित्यकार शायद इसे ही कहते हैं।

-Advertisement-

-Advertisement-

Related Posts :

  1. सुषमा स्वराज का जीवन परिचय
  2. अनंत कुमार का जीवन परिचय
  3. मैक्स प्लांक का जीवन परिचय
  4. दांते एलीगियरी का जीवन परिचय
  5. मैरी वुलस्टोनक्राफ़्ट का जीवन परिचय
  6. रोज़ा लक्जमबर्ग का जीवन परिचय

-Advertisement-