बायोग्राफी - Biography

आप यहाँ सभी महापरुष का बायोग्राफी, जीवन परिचय, जीवनी, आत्मकथा, बायोडाटा तथा उनसे सम्बंधित विभिन्न कहानियाँ पढ़ सकते हैं।

You read here biography meaning, biography of, bio, biography of famous people, famous biographies, biography of great persons, biographical, jivani, jivan parichay in hindi, atmakatha, autobiography, jivani in hindi, biography in hindi, jeevan parichay, jeevani etc.

आप अपना सुझाव हमें देने के लिए हमसे यहाँ संपर्क कर सकते है।

सुभाष चन्द्र बोस का जीवन परिचय

Subhash Chandra Bose Biography

सुभाष चन्द्र बोस के पिता जानकी नाथ बोस वास्तविक रुप से बंगाल के परगना जिले के एक छोटे से गाँव के रहने वाले थे। ये वकालत करने के लिये कटक आ गये क्योंकि इनके गाँव में वकालत में सफल होने के कम अवसर थे। लेकिन कटक में इनके भाग्य ने इनका साथ दिया और सुभाष के जन्म से पहले...Read More

लाला लाजपत राय का जीवन परिचय

Lala Lajpat Rai Biography

लाला लाजपत राय बाल्यास्था के प्रारम्भिक दिनों में अच्छे स्वास्थ्य वाले नहीं थे, क्योंकि इनका जन्म स्थान एक मलेरिया ग्रस्त क्षेत्र था। बचपन में ये बहुत ही अस्वस्थ और अक्सर मलेरिया से पीड़ित रहते थे। लाला लाजपत राय के दादा मालेर में पटवारी थे और अपने परिवार की परम्परा के अनुरुप किसी भी प्रकार से धन संग्रह को अपना...Read More

चन्द्रशेखर आजाद का जीवन परिचय

Chandra Shekhar Azad Biography

चन्द्रशेखर की प्रारम्भिक शिक्षा घर पर ही प्रारम्भ हुई। पढ़ाई में उनका कोई विशेष लगाव नहीं था। इनकी पढ़ाई का जिम्मा इनके पिता के करीबी मित्र पं. मनोहर लाल त्रिवेदी जी ने लिया। वह इन्हें और इनके भाई (सुखदेव) को अध्यापन का कार्य कराते थे और गलती करने पर बेंत का भी प्रयोग करते थे। चन्द्रशेखर के माता पिता...Read More

महाराणा प्रताप का जीवन परिचय

Maharana Pratap Biography

महाराणा प्रताप का नाम इतिहास में वीरता और दृढ़ प्रतिज्ञा के लिए अमर है। वे उदयपुर, मेवाड़ में सिसोदिया राजवंश के राजा थे। वह तिथि धन्य है, जब मेवाड़ की शौर्य-भूमि पर 'मेवाड़-मुकुट मणि' राणा प्रताप का जन्म हुआ। वे अकेले ऐसे वीर थे, जिसने मुग़ल बादशाह अकबर की अधीनता किसी भी प्रकार स्वीकार नहीं की। वे हिन्दू कुल...Read More

सुखदेव का जीवन परिचय

Sukhdev Thapar Biography

सुखदेव का पालन पोषण इनके ताया जी अचिन्तराम थापर ने किया। इनकी तायी जी भी इनसे बहुत प्रेम करती थी। वे दोनों इन्हें अपने पुत्र की तरह प्रेम करते थे और सुखदेव भी इनका बहुत सम्मान करते थे और इनकी हर बात मानते थे। सुखदेव का प्रारम्भिक जीवन लायलपुर में बीता और यही इनकी प्रारम्भिक शिक्षा भी हुई। बाद...Read More

1234...»