भजन - प्रार्थना - Hymn - Prayer

आप यहाँ सभी देवी-देवताओं की भजन तथा प्रार्थना पढ़ सकते हैं। जैसे शिव भजन, राम भजन, श्री कृष्ण भजन, शंकर भजन, वृहस्पति देव भजन, श्री रामचन्द्र भजन, माँ दुर्गा भजन, सीता माता भजन, लक्ष्मी माता भजन, सरस्वती भजन, शनिदेव भजन, महाशिवरात्रि भजन, सरस्वती प्रार्थना, सुबह भजन, सुबह का प्रार्थना, धार्मिक भजन, धार्मिक प्रार्थना, देवी भजन, देवी-देवताओं के प्रार्थना, भजन संग्रह इत्यादी पढ़ सकते हैं।

आप अपना सुझाव हमें देने के लिए हमसे यहाँ संपर्क कर सकते है।

मेरी शेरों वाली माँ - देवी भजन

Meri Shera Wali Maa Hymn - Prayer

"देवी भजन" झूला पीपल पर डलवा दो मेरी शेरों वाली का .......... झूला पीपल पर डलवा दो मेरी शेरों वाली का। मेरी शेरों वाली का, मेरी मेहरां वाली का।। झूला पीपल .............. ये झूला शंकर ने डाला -२ झोटा गौरा से दिलवा दो, मेरी शेरों वाली को, मेरी मेहरां वाली को।। ...Read More

जाऊँ कहाँ तजि चरन तुम्हारे - राम भजन

Jaaun Kahan Taji Charan Tumhare Hymn - Prayer

"राम भजन" जाऊँ कहाँ तजि चरन तुम्हारे।। काको नाम पतित पावन जग, केहि अति दीन पियारे। जाऊँ कहाँ तजि चरन तुम्हारे।। कौनहुँ देव बड़ाइ विरद हित, हठि हठि अधम उधारे। जाऊँ कहाँ तजि चरन तुम्हारे।। खग मृग व्याध पषान विटप जड़, यवन कवन सुर तारे। जाऊँ कहाँ तजि चरन तुम्हारे।। देव,...Read More

सुनेरी मैंने निरबल के बलराम - राम भजन

Suneri Maine Nirbal Ke Balram Hymn - Prayer

"राम भजन" सुनेरी मैंने निरबल के बल राम, पिछली साख भरूँ संतन की, अड़े सँवारे काम। जब लग गज बल अपनो बरत्यो, नेक सरयो नहीं काम, निर्बल ह्वै बल राम पुकार्‌यो, आये आधे नाम। सुनेरी मैंने निरबल के बल राम। द्रुपद सुता निर्बल भईं ता दिन, तजि आये निज धाम, दुस्शासन की भुजा थकित भई,...Read More

राम दो निज चरणों में स्थान - श्रीराम भजन

Ram Do Nij Charnon Mei Sthan Hymn - Prayer

"राम भजन" राम, दो निज चरणों में स्थान। शरणागत अपना जन जान। अधमाधम मैं पतित पुरातन। साधन हीन निराश दुखी मन। अंधकार में भटक रहा हूँ। राह दिखाओ अंगुली थाम। राम, दो ... सर्वशक्तिमय राम जपूँ मैं। दिव्य शान्ति आनन्द छकूँ मैं। सिमरन करूं निरंतर प्रभु मैं। राम नाम मुद मंगल धाम। राम, दो ... केवल...Read More

दीनबंधु दीनानाथ मेरी - राम भजन

Deenbandhu Dinanaath Meri Hymn - Prayer

"राम भजन" दीनबन्धु दीनानाथ, मेरी तन हेरिये॥ भाई नाहिं, बन्धु नाहिं, कटुम-परिवार नाहिं। ऐसा कोई मीत नाहिं, जाके ढिंग जाइये॥ खेती नाहिं, बारी नाहिं, बनिज ब्योपार नाहिं ऐसो कोउ साहु नाहिं, जासों कछू माँगिये॥ कहत मलूकदास, छोड़ि दे पराई आस, राम धनी पाइकै, अब काकी सरन जाइये॥ दीनबन्धु दीनानाथ, मेरी तन...Read More

1234...»