हिंदी कविता - Hindi Rhymes


खुशबू रचते हैं हाथ - हिंदी कविता

Khushboo Rachate Hain Haath Hindi Rhymes

कई गलियों के बीच, कई नालों के पार कूड़े-करकट के ढेरों के बाद बदबू से फटते जाते इस टोले के अन्दर खुशबू रचते हैं हाथ। . . . Read More . . .

Advertisement

भारत के वीर

Bharat Ke Veer Hindi Rhymes

हे भारतीय युवक, ज्ञानी विज्ञानी, मानवता के प्रेमी संकीर्ण तुच्छ लक्षय की लालसा पाप है। मेरे सपने बड़े, मैं मेहनत करूँगा मेरा देश महान हो, धनवान हो, गुणवान हो यह प्रेरणा का भाव अमूल्य है कहीं भी धरती पर, उससे ऊपर या नीचे दीप जलाए रखूँगा, जिससे मेरा देश महान हो। . . . Read More . . .


माँ तुझे सलाम

Maa Tujhe Salam Hindi Rhymes

समंदर की लहरें, सुनहरी रेत रामेश्वर द्वीप की वह छोटी पूरी दुनिया सबमें तू निहित, सब तुझमें समाहित। तेरी बाहें में पला मैं, मेरी कायनात रही तू जब छिड़ा विश्व युद्ध, छोटा सा मैं, जीवन बना था चुनौती, जिंदगी अमानत मीलों चलते थे हम, पहुँचते किरणों से पहले। कभी जाते मंदिर लेने स्वामी से ज्ञान, कभी मौलाना के पास लेने अरबी का सबक, स्टेशन को जाती रेत भारी सड़क, बांटे थे अख़बार मैंने, चलते पलते साए में तेरे। . . . Read More . . .

Advertisement

नया साल

Naya Saal New Year Poems Hindi Rhymes

नया साल है नया साल है। खूब ख़ुशी है खूब धमाल है। पढ़ने लिखने से छुट्टी है। घर बाहर हर पल मस्ती है। खाना पीना माल टाल है। नया साल है नया साल है। सभी ओर उत्सव की धूम है। लगा साथियों का हुजूम है। गाना वाना मस्त ताल है। नया साल है नया साल है। . . . Read More . . .

Advertisement

वसन्त आया गीत

Vasant Aaya Geet Hindi Rhymes

सखि, वसन्त आया। भरा हर्ष वन के मन, नवोत्कर्ष छाया। किसलय-वसना नव-वय-लतिका मिली मधुर प्रिय-उर तरु-पतिका, मधुप-वृन्द बन्दी पिक-स्वर नभ सरसाया। . . . Read More . . .


Categories