धार्मिक आरती - Religious Aarti

गोमाता की आरती

Gomata Aarti Religious Aarti

"आरती" आरती श्री गैय्या मैंय्या की, आरती हरनि विश्वर धैय्या की, अर्थकाम सुद्धर्म प्रदायिनि अविचल अमल मुक्तिपददायिनि, सुर मानव सौभाग्यविधायिनि, प्यारी पूज्य नंद छैय्या॥ अख़िल विश्वौ प्रतिपालिनी माता, मधुर अमिय दुग्धान्न प्रदाता, रोग शोक संकट परित्राता भवसागर हित दृढ़ नैय्या की, आयु ओज आरोग्यविकाशिनि, दुख दैन्य दारिद्रय विनाशिन॥ सुष्मा सौख्य समृद्धि प्रकाशिनि, विमल विवेक बुद्धि दैय्या...Read More

विश्वकर्मा जी की आरती

Vishvkarma Ji Aarti Religious Aarti

"आरती" जय श्री विश्वकर्मा प्रभु, जय श्री विश्वकर्मा। सकल सृष्टि के करता, रक्षक स्तुति धर्मा॥ जय श्री विश्वकर्मा..... आदि सृष्टि मे विधि को श्रुति उपदेश दिया। जीव मात्रा का जाग मे, ज्ञान विकास किया॥ जय श्री विश्वकर्मा..... ऋषि अंगीरा ताप से, शांति नहीं पाई। रोग ग्रस्त राजा ने जब आश्रया लीना। संकट मोचन बनकर डोर दुःखा...Read More

चार धाम की आरती

Chaar Dham Aarti Religious Aarti

"आरती" चलो रे साधो, चलो रे सन्तो, चन्दन तलाब में नहायस्याँ। दर्शन ध्यों, जगन्नाथ स्वामी, फेर जन्म नाही पायस्याँ॥ चलो रे साधो, चलो रे सन्तो, रत्नागर सागर नहायस्याँ। दर्शन ध्यों, रामनाथ स्वामी, फेर जन्म नहीं पायस्याँ॥ चलो रे साधो, चलो रे सन्तो, गोमती गंगा में नहायस्याँ। दर्शन ध्यो, रणछोड़ टीकम, फेर जन्म नही पायस्याँ॥ चलो...Read More

कालरात्रि माता की आरती

Kalratri Mata Aarti Religious Aarti

"आरती" कालरात्रि जय-जय-महाकाली। काल के मुह से बचाने वाली॥ दुष्ट संघारक नाम तुम्हारा। महाचंडी तेरा अवतार॥ पृथ्वी और आकाश पे सारा। महाकाली है तेरा पसारा॥ खडग खप्पर रखने वाली। दुष्टों का लहू चखने वाली॥ कलकत्ता स्थान तुम्हारा। सब जगह देखूं तेरा नजारा॥ सभी देवता सब नर-नारी। गावें स्तुति सभी तुम्हारी॥ रक्तदंता और...Read More

देवी चंद्रघंटा माता की आरती

Maa Chandraghanta Aarti Religious Aarti

"आरती" जय माँ चन्द्रघंटा सुख धाम। पूर्ण कीजो मेरे काम॥ चन्द्र समाज तू शीतल दाती। चन्द्र तेज किरणों में समाती॥ क्रोध को शांत बनाने वाली। मीठे बोल सिखाने वाली॥ मन की मालक मन भाती हो। चंद्रघंटा तुम वर दाती हो॥ सुन्दर भाव को लाने वाली। हर संकट में बचाने वाली॥ हर बुधवार को...Read More