1. होम
  2. हिंदी कविता
  3. हर रोज उस चांद में

हर रोज उस चांद में

हर रोज उस चांद में बस तुम्हारा ही दीदार करते है,
सुनो न आज भी सिर्फ तुमसे ही प्यार करते है।

अब तो तन्हा बैठ आसमां को निहारा करते है सारी रात,
अब तो आकर चाँद सितारें भी करने लगे है मुझसे बात।

रात भर जाग-जाग कर अभी भी सिर्फ तुम्हारा ही इन्तजार करते हैं,
सुनो न आज भी सिर्फ तुमसे ही प्यार करते है।

साथ बिताये हुये हर लम्हों को मैनें अभी भी सजोया हैं,
पता हैं मेरी ही गलती से मैनें तुम्हें खोया हैं।

कमी खलती है तुम्हारी बहुत आज भी दिल से तुम्हारी दरकार करते है,
सुनो न आज भी सिर्फ तुमसे ही प्यार करते है।

बेकरारी का आलम अब भी मुझे बेकरार करता है,
बेचैन दिल आज भी तुम्हारा ऐतबार करता है।

अभी साँसो में जिंदा हो तुम अब ये दिल-ए-इजहार करते है,
सुनो न आज भी सिर्फ तुमसे ही प्यार करते है।

छोड़ो न बहुत हुई गुस्सा अब मान भी जाओं,
यूँ परेशान मत करों पास आओं अब न तड़पाओं।

चलों अब फिर इस वेलेंटाइन डे से प्यार-ए-सफर की नई शुरुआत करते हैं,
सुनो न आज भी सिर्फ तुमसे ही प्यार करते है।

© शिवांकित तिवारी "शिवा" युवा कवि एवं लेखक सतना (म.प्र.)

Har Roj Us Chaand Mein Hindi Rhymes

-Advertisement-

Har Roj Us Chaand Mein Bas Tumhaara Hi Didaar Karte Hain,
Suno Na Aaj Bhi Sirf Tumase Hi Pyaar Karte Hain.

Ab To Tanha Baith Aasamaan Ko Nihaara Karte Hain Saari Raat,
Ab To Aakar Chaand Sitaaren Bhi Karne Lage Hain Mujhase Baat.

Raat Bhar Jaag-Jaag Kar Abhi Bhi Sirf Tumhaara Hi Intajaar Karte Hain,
Suno Na Aaj Bhi Sirf Tumase Hi Pyaar Karte Hain.

Saath Bitaaye Huye Har Lamhon Ko Mainen Abhi Bhi Sajoya Hai,
Pata Hai Meri Hi Galati Se Mainen Tumhen Khoya Hai.

Kami Khalti Hain Tumhaari Bahut Aaj Bhi Dil Se Tumhaari Darakaar Karte Hain,
Suno Na Aaj Bhi Sirf Tumase Hi Pyaar Karte Hain.

Bekaraari Ka Aalam Ab Bhi Mujhe Bekaraar Karta Hain,
Bechain Dil Aaj Bhi Tumhaara Aitabaar Karta Hain.

Abhi Saanso Mein Jinda Ho Tum Ab Ye Dil-E-Ijahaar Karte Hain,
Suno Na Aaj Bhi Sirf Tumase Hi Pyaar Karte Hain.

Chhodo Na Bahut Hui Gussa Ab Maan Bhi Jaon,
Yun Pareshaan Mat Karo Paas Aaon Ab Na Tadapaon.

Chalon Ab Phir Is Velentain De Se Pyaar-E-Saphar Ki Nai Shuruaat Karte Hain,
Suno Na Aaj Bhi Sirf Tumase Hi Pyaar Karte Hain.

© Shivankit Tiwari "Shiva" Yuva Kavi & Lekhak, Satana (MP)

-Advertisement-

-Advertisement-

Related Posts :

  1. नये साल की सुबह सुहानी
  2. वह - कविता
  3. चम्मू चींटा - बाल कविता
  4. चिड़िया के थे बच्चे चार
  5. भूल गया है क्यों इंसान
  6. हम कुछ करके दिखलाएँगे - कविता

-Advertisement-